Sat. Apr 20th, 2024

It’s All About Cinema

Tweet War/ शशि थरूर के ट्वीट पर अनुपम खेर का पलटवार, खूब सुनाई खरी-खोटी

1 min read
अनुपम खेर-शशि थरूर - filmania entertainment

अनुपम खेर-शशि थरूर


अभिनेता अनुपम खेर और कांग्रेस नेता शशि थरूर दोनों टि्वटर पर काफी एक्टिव रहते है. और दोनों की गाहे-बगाहे एक दूसरे से किसी ना किसी बात पर बहस (tweet War) होती रहती है. हालांकि दोनों अपनी फील्ड के बेहतरीन कलाकार हैं इसीलिए अपनी बात को ऊपर रखने मे कोई भी पीछे नहीं हटता. हाल ही में एक बार फिर शशि थरूर ने अनुपम खेर का एक बहुत पुराना ट्वीट शेयर कर उन पर निशाना साधा था, जिस पर गुस्साए अनुपम खेर ने ट्वीट के जरिए थरूर को खूब खरी-खोटी सुनाई.

filmania youtube

पुराने ट्वीट से शुरू हुई बहस

आपको बता दें कि कि दोनों एक दूसरे को टारगेट करने का कोई भी मौका नहीं छोड़ते. कुछ ही समय पहले दोनों की भिड़ंत (Tweet War) पीएम की आत्मनिर्भर योजना के दौरान हुई थी. हाल ही में शशि थरूर ने अभिनेता अनुपम खेर का करीब 8 साल पुराना 2012 के एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट दर्शकों के साथ साझा किया. जिसमें अनुपम खेर ने ऐडवर्ड एबे के एक फेमस कोट की मदद से यह बताया था कि एक देशभक्त को हमेशा अपनी सरकार के खिलाफ आवाज उठाने के लिए तैयार रहना चाहिए. इसी ट्वीट को शेयर कर शशि थरूर ने मार्क ट्वेन का उदाहरण देते हुए लिखा कि देशभक्ति आपके देश मे हर समय आपकी सरकार का समर्थन करती है.

shashi tweet war

अनुपम खेर ने किया पलटवार

इस बात से अनुपम खेर ने अपना गुस्सा जाहिर करते हुए ट्वीट के जरिये थरूर को जमकर सुनाया. उन्होंने शशि थरूर को टैग करते हुए लिखा कि प्रिय शशी थरूर आपने मेरे 2012 के ट्वीट को ना सिर्फ ढूंढ कर निकाला बल्कि उस पर लंबी चर्चा भी की. यह बात ना सिर्फ आपका खाली दिमाग बल्कि आपकी बेरोजगारी को भी दर्शाता है. इंसानियत नाम की कोई चीज नहीं है यह आपके इस बर्ताव से पता चल गया. आप और सब जानते कि मेरा यह ट्वीट जिन लोगों के लिए था वे आज भी भ्रष्टाचारी है. इस बात को सुनकर शशि थरूर भी कहां चुप बैठने वाले थे.

anupam tweet

उन्होंने इस बात का जवाब देते हुए लिखा कि प्रिय अनुपम खेर आपके इस ट्वीट को शेयर करना नीचे गिराना दर्शाता है तो आपकी नजर में वह सरकार क्या है जो हमेशा 1962 , 1975 और 1984 के बारे मे बोलती रहती है. यह भी बेरोजगारी, खाली दिमाग को दर्शाता है. मेरा भी ट्वीट उन्हीं लोगों के लिए है जो भारत के लिए नाकामयाब साबित हो रहे हैं.

-मुस्कान अब्बासी

filmania magazine