Sat. May 18th, 2024

It’s All About Cinema

TRIBUTE/ सुशांत सिंह राजपूत के घर पहुँचकर प्रोड्यूसर संदीप सिंह ने दी श्रद्धांजलि

1 min read

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने सिर्फ 34 साल की आयु में दुनिया को अलविदा कह दिया. उनका इस तरह से जाने की खबर ने उनके परिवार, दोस्त और प्रशंसक उदास हैं. सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद कई राजनेता और बॉलीवुड स्टार पटना जाकर उनके परिवार से मिल रहे हैं. कुछ दिन पहले नाना पाटेकर ने पटना उनके घर पहुंच कर सुशांत सिंह राजपूत को श्रद्धांजलि (TRIBUTE) दी तो वहीं सुशांत के दोस्त प्रोड्यूसर संदीप सिंह पटना पहुंचे और उनके परिवार से मुलाकात की हाल ही में उन्होंने एक फोटो शेयर किया जिसमें वह सुशांत सिंह राजपूत की तस्वीर पर फूल चढ़ाते हुए और उनको श्रद्धांजलि (TRIBUTE) देते हुए नजर आ रहे हैं.

filmania magazine

हाल ही में संदीप सिंह से एक इंटरव्यू में पूछा गया कि इतने दिन से सुशांत के मन में जो भी कुछ चल रहा था क्या आपको उसके बारे में थोड़ा भी अंदाजा था वह क्यों परेशान थे और किस दौर से गुजर रहे थे. इस बात पर संदीप सिंह ने जवाब देते हुए कहा कि पहले मैं आपको बता दूं कि सुशांत एक शांत स्वभाव वाला इंसान था. वह कभी भी अपने मन की बात, अपनी फीलिंग्स किसी से शेयर नहीं करता था. उसकी पर्सनल जिंदगी में क्या चल रहा है उसके बारे मे वह किसी से बात नहीं करता था. साथ ही उन्होंने कहा कि जब कोई इंसान बहुत परेशान होता है तो वह अपने मन की बात किसी को नहीं बताता हालांकि इस बात का मुझे अफसोस है, एक दोस्त होने के नाते मुझे उनकी परेशानी को खुद समझना चाहिए था. उनके मन में क्या चल रहा है उसके बारे में जानना चाहिए था.

संदीप सिंह ने कहा कि मैंने और महेश ने उसे कभी सिर्फ एक फ़िल्म स्टार नहीं समझा. हमने उसे दोस्त माना. हमेशा दोस्त के नजरिए से ही देखते थे अब लगता है कि शायद अगर थोड़ा उसको अपनापन फील कराते. उसपर अपना हक जताते तो शायद आज वह हमारे साथ होता. ऐसे हमें छोड़कर ना जाता.

motivation 2 read ad

संदीप सिंह ने यह भी बताया कि सुशांत का सारा सामान मेमोरियल में शिफ्ट होने पर उन्होंने कहा कि अभी थोड़ा रुक जाओ, अभी थोड़ा समय तो हो जाने दो. हमने यह तो मान लिया कि वह हमें छोड़ कर जा चुका है. उन्होंने बताया कि सुशांत की बहन और मैं कुछ दिन पहले ही सुशांत के घर में बात कर रहे थे अभी रुक जाते हैं अभी थोड़ा उसे साथ जीते हैं इतनी जल्दी किस बात की.

Muskan Abbasi